हिन्दुओं का अस्तित्व बनाए रखना हो, तो हिन्दुओं को संगठित होना ही एकमात्र विकल्प है ! – श्री. कपिल मिश्रा, भाजपा नेता तथा भूतपूर्व विधायक, देहली

‘ऑनलाईन’ ‘हिन्दू राष्ट्र-जागृति सभा’ ने जगाया सहस्रों हिन्दुओं में नवचैतन्य ! वर्तमान स्थिति में हिन्दू संस्कृति, सभ्यता, परंपरा, इतिहास, शौर्य आदि को अपमानित और समाप्त करने के लिए देश में प्रतिदिन...

राष्ट्रकल्याण तथा विश्वकल्याण हेतु हिन्दू राष्ट्र स्थापना की प्रतिज्ञा करें ! – सद्गुरु (डॉ.) चारुदत्त पिंगळेजी, राष्ट्रीय मार्गदर्शक, हिन्दू जनजागृति समिति

‘ऑनलाइन’ हिन्दू राष्ट्र जागृति सभा ने जगाई हिन्दुओं में हिन्दू राष्ट्र स्थापना की चिंगारी  चलचित्र, वेबसीरीज आदि के माध्यम से हिन्दुद्वेष फैलाने का षड्यंत्र रचा...

हिन्दू राष्ट्र की आवाज बुलंद करने के लिए ‘ऑनलाइन हिन्दू राष्ट्र-जागृति सभा’

 हिन्दू जनजागृति समिति, हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के लिए अखंड कार्यरत है । धर्मशिक्षण, धर्मजागृति, धर्मरक्षण, राष्ट्ररक्षण और हिंदूसंगठन यह समिति के कार्य के...

राष्ट्रध्वज का सम्मान करें !

राष्ट्रध्वज राष्ट्रीय अस्मिता का प्रतीक है । उसका योग्य मान रखना, यह राष्ट्राभिमान का लक्षण है । राष्ट्रध्वज हमें त्याग, क्रांति, शांति एवं समृद्धि जैसे मूल्यों की शिक्षा देता है । उत्साह  के आवेश में राष्ट्रध्वज का अनावश्यक एवं अनुचित उपयोग करते समय हम इन मूल्यों को ही अपने पैरोंतले रौंद रहे हैं, यह सदैव स्मरण रखिए । राष्ट्रध्वज का होने वाला अपमान रोकना, यह प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है । स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए लडने वाले स्वातंत्र्यवीरों की एवं क्रांतिकारियों का स्मरण कर उनके जिन गुणों के कारण उन्होंने स्वतंत्रता-संग्राम किया, उन गुणों को आत्मसात कर, उसीनुसार आचरण करने का प्रयत्न करें । राष्ट्रध्वज को अपमानित न होने दें ! ध्वज संहिता में बताए अनुसार एवं ऊंचे स्थान पर राष्ट्रध्वज फहराएं । छोटे बच्चों को राष्ट्रध्वज का उपयोग खिलौने समान न करने दें । मुख तथा कपडे राष्ट्रध्वज समान न रंगवाएं ! प्लास्टिक के राष्ट्रध्वज का उपयोग पताका के रूप में न करें । राष्ट्रध्वज पैरोंतले रौंदा न जाए तथा फटे नहीं, इसपर ध्यान दें । राष्ट्रगीत-गायन अनुचित स्थान एवं अनुचित समय पर न हो, इस पर ध्यान दें! राष्ट्रगीत के अंत तक ‘सावधान’ स्थिति में खडे रहें तथा उस समय आपस में बात न करें !         हिन्दू जनजागृति समिति एवं सनातन संस्था ने मिल कर ‘राष्ट्रध्वज का सम्मान’ नामक राष्ट्रीय स्तर पर एक अभियान आरंभ किया है । इस अभियान के अंतर्गत समिति विभिन्न पाठशालाओं में जाकर बच्चों को शिक्षित करने का प्रयास कर रही है । सार्वजनिक स्थानों और सूचना फलक पर  निवेदन का प्रदर्शन करना और अंतर जाल के माध्यम से अधिकतम लोगों तक पहुंचने का प्रयास समिति कर रही है । समिति उपरोक्त उपायों को लागू करने के लिए, समाचार पत्र के माध्यम द्वारा लोगों से निवेदन कर रही है । समिति ने भारत के कुछ राज्यों के मुख्यमंत्री से मुलाक़ात कर, उनके सम्मुख यह मांग रखी है कि राष्ट्रध्वज के अनादर के संदर्भ में कडी कार्यवाई की जाए। प्लास्टिक के झंडों पर प्रतिबंध, प्रमुख मांगों में से एक है । समिति ने गणतंत्र दिवस व स्वतंत्रता दिवस पर, कई शहरों में अलग-अलग स्थानों पर झंडा संग्रह करने के लिए बक्सों का प्रबंध किया है । भारत की ‘ध्वज संहिता’के अनुसार, एकत्रित झंडों को सम्मान पूर्वक जलाया अथवा दफनाया जाएगा । क्षतिग्रस्त ध्वज की व्यवस्था के लिए सूचना (दिशानिर्देश)         ध्वज के क्षतिग्रस्त अथवा मैले हो जाने पर उसे सम्मान पूर्वक जलाया जाएगा अथवा किसी अन्य विधि द्वारा नष्ट किया जाएगा, जो ध्वज की गरिमा पर आंच न आने दे । – ‘भारत की ध्वज संहिता’, धारा द्वितीय,पॉइंट राष्ट्रध्वज का अनादर रोको – मैं कैसे योगदान कर सकता हूं ? आप इस अभियान में सहभागी होकर, आप से जितना सम्भव है उतना कर सकते हैं : 1. सक्रिय बनें : ऊपर उल्लेखित अप्रिय घटनाओं को रोकने के लिए अपने मित्रों और सगे-संबंधियों को यह जानकारी दे सकते हैं । 2. क्षतिग्रस्त झंडों को एकत्रित कीजिए और सम्मान पूर्वक जलाने की व्यवस्था कीजिए । 3. इस जानकारी को आप पाठशालाओं में ‘यह करें’ और ‘यह न करें’ के रूप में सूचना फलक में प्रसारित कर सकते हैं ।...

निर्वासित कश्मीरी हिन्दुओं को स्वयं की भूमि प्राप्त करवाने के लिए संपूर्ण देश में जागृति की आवश्यकता ! – श्री. राहुल कौल, अध्यक्ष, यूथ फॉर पनून कश्मीर

 ‘कश्मीरी हिन्दुओं के निष्कासन के ३१ वर्ष !’ इस विषय पर विशेष परिसंवाद वर्ष 1990 में कश्मीरी  हिन्दुओं  ने स्थलांतरण नहीं किया था, अपितु उन्हें निष्कासित किया गया था...

‘अपेडा’ द्वारा हलाल सर्टिफिकेट की अनिवार्यता निकालना सरकार का पहला कदम

            सेक्युलरवाद बतानेवाले भारत में इस्लामी मत पर आधारित हलाल सर्टिफिकेट की अनिवार्यता के विषय में बडा विवाद चालू हुआ था । भारत के...

सरकार को हिन्दुओं के मंदिर चाहिए, तो वह सर्वप्रथम भारत को ‘हिन्दू राष्ट्र’ घोषित करे ! – एम. नागेश्‍वर राव, ‘सीबीआई’ के भूतपूर्व प्रभारी संचालक

‘आंध्र प्रदेश के मंदिरों पर आघातों का षड्यंत्र ?’ विषय पर विशेष संवाद !  वर्ष 2020 में आंध्र प्रदेश में मंदिरों में तोडफोड की 228 घटनाएं हुईं, ऐसा राज्य के पुलिस महासंचालक...

शीघ्र ही गंगाजल द्वारा कोविड-19 पर उपचार करनेवाली सस्ती औषधि उपलब्ध करने का प्रयत्न !

‘क्या गंगाजल कोविड-19 पर रामबाण उपाय हैे ?’ इस विषय पर हिन्दू जनजागृति समिति का ‘सनातन संवाद’ !शीघ्र ही गंगाजल द्वारा कोविड-19 पर उपचार...

धर्मनगरी उज्जैन में शांतिभंग करने वाले पत्थरबाजों को ढूंढकर कठोर कार्यवाही करें । – हिन्दू जनजागृति समिति

उज्जैन – रामजन्मभूमि पर प्रभु श्रीराम जी के मंदिर के निर्माणार्थ निधी संकलन करने हेतु निकाली गई हिंदुत्वनिष्ठों की वाहन रैली पर छतों से और गलियों...