माता रानी की हर मूरत और हर रूप एक सीख देती है-भारती

शेर जिनकी सवारी है| शक्ति की आराधना आपको सिर्फ ये नहीं सिखाती कि ये नौ दिन आएँगे‌ और माँ के नौ नामों को पूजा...

एक अंतरिक्ष वैज्ञानिक ने बताया नवरात्रि का महत्व

नवरात्रों का महत्त्वलेखक :- डॉ ओम प्रकाश पांडेय(लेखक प्रसिद्ध अंतरिक्षविज्ञानी हैं) भारतीय अवधारणा में हिरण्यगर्भ जिसे पाश्चात्य विज्ञान बिग बैंग के रूप में देखता...

ये नया भारत है, सहन नहीं करेंगे: मां लक्ष्मी को ‘बम’ कहने की सोच पर हल्ला बोल..!

अगर तुम्हें अब रोज़ ये सीखने समझने की जरूरत है कि ,कम से कम उन नाम और चरित्रों जो सनातन का गौरव रहे हैं...

दुर्गा पूजा ..वो रामलीला के दिन ..हल्के ठंड का मौसम ..लखनऊ, , पूना ,दानापुर , मधुबनी से दिल्ली तक ……A Nostalgia

वैसे तो बरसात के मौसम की विदाई के साथ ….धूप की चटकीली चमक जैसे जैसे बढती जाती है …..उन तमाम लोगों के मन पर...

बेटियों : सिर्फ पूजने का नहीं , ये भवानी ,दुर्गा ,काली बन जाने का समय है

एक बेटी के पिता के रूप में आज कुछ वो बातें साझा कर रहा हूँ आप सबसे और खासकर मेरी बेटियों जैसे देश और...

प्राचीन और सबसे सफल तरीके बलात्कार को रोकने के लिए: चलो हमारे सुनहरे अतीत में वापस जाएँ

गरुण पुराण, हिंदू विचारधारा की पुस्तक के अनुसार बलात्कारी को दंडित करने के लिए शातिर सांपों को फेंक दिया जाना चाहिए, उन्हें जानवरों द्वारा कुचल दिया जाना चाहिए।

इसलिए हिन्दू धर्म सर्वश्रेष्ट्र धर्मो में एक है : गौरवशाली इतिहास की राह चले

मुझे लगता है कि विद्वान डॉ। भीमराव अंबेडकर को संस्कृत में पारंगत नहीं राहे होगे, इसीलिए वे मनु स्मृति के श्लोकों का वास्तविक अर्थ नहीं खोज पाए और इसे जलाने का फैसला किया।

लव जिहाद: कानपुर में टीचर इमरान अंसारी अपनी Students को करता है Msg, मामला उजागर होने से हड़कंप

देशभर में लगातार लव जिहाद के मसलों पर बवाल मचा हुआ है। बीते कई दिनों से उत्तर प्रदेश के कानपुर में लव जिहाद के...

हिन्दू बच्चों में दैनिक धार्मिक गतिविधियों का ज्ञान प्राप्त करने के प्रति इतनी उदासीनता क्यों?

अगली पीढ़ी को उसकी जिम्मेदारी संभालने की क्षमता से युक्त बनाने के लिए आपको पहले अपनी जिम्मेदारी उठानी होगी, आपको स्वयं भारतीय रीति-रिवाजों का, उनके पीछे जो वैज्ञानिक कारण हैं उनका ज्ञान एकत्रित करना होगा।

हिन्दू बच्चों में दैनिक धार्मिक गतिविधियों का ज्ञान प्राप्त करने के प्रति इतनी उदासीनता क्यों?