बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में 17 अक्टूबर को मोहम्मद शफीक ने अपनी दूसरी बीबी मीना खातून की जीभ काट दी …
इस घटना पर हेडलाइन देते समय एक प्रतिष्ठित चैनल ने लिखा कि “करवा चौथ में पति ने पत्नी की जीभ काटी” । टाइम्स नाउ हिंदी लिखता है कि “करवा चौथ के दिन ही पति बना हैवान” ।
एक अन्य न्यूज़ चैनल लिखता है कि “करवा चौथ बना कड़वा चौथ” ।
हैरानी की बात यह है कि इस घटना में कहीं भी करवा चौथ का कोई रोल नहीं रहा । फिर भी मीडिया हाउसेज़ ने इसे बड़ी ही धूर्तता के साथ लिखा ।
हिन्दू त्योहारों को बदनाम करना, रूढ़िवादी बताना, पितृ सत्ता का स्मारक बताना ये सब आज के नये शगल हैं । कभी पानी बचाने की सीख देता है तो कभी पटाख़े न फोड़ने की ।
अरे हाँ, आज से ठीक सातवें दिन प्रियंका चोपड़ा को अस्थमा होगा और अनुष्का शर्मा का कुत्ता डर जाएगा ।
यूपी वार्ता नाम के इस चैनल ने देखो किस प्रकार से इस खबर को छापा है एक बार भी औरत के पति का नाम नहीं लिखा और लड़की का नाम मीना लिखा है ताकि प्रथम दृश्य से ये खबर हिन्दू समाज की लगे…. ये एजेंडा है हिन्दुत्व को बदनाम करने का, करवा चौथ जैसे पावन व भावनात्मक त्योहार को अपवित्र करने का…
आप पढ़े ये खबर और इसकी लिखावट 👇👇👇👇

करवा चौथ के दिन पति की हैवानियत, आक्रोश में आकर पत्नी की जीभ को दो टुकड़ों में काट दिया
बिहार के मुजफ्फरपुर में करवा चौथ के दिन पति आक्रोश की ज्वाला में इस कदर सराबोर हो गया कि उसने अपनी 22 वर्षीय पत्नी मीना खातून की जीभ को दो टुकड़ों में काट दिया। फिलहाल, मीना को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, जहां उसकी हालत नाजूक बनी हुई है। वहीं, आरोपी को पुलिस के हवाले कर दिया गया है। मीना के परिजनों ने अपने दामादा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाई और सख्स से सख्त कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की है। ये भी पढ़े :स्कूल संचालक की शर्मानक करतूत, दिव्यांग महिला टीचर के साथ किया रेप, फिर जानलेवा हमला
दरअसल, मीना का आरोपी पति करवा चौथ के दिन ही राजस्थान से लौटा था। इस बीच मीना अपने सौतन से झगड़ रही थी, जिसे देख उसका पति गुस्से से आग-बबूला हो गया और उसने अपनी पहली पत्नी मीना को कमरे में ले जाकर पहले तो उसकी खूब बेरहमी से पिटाई की, उसके बाद ब्लेड लेकर उसकी जीभ को दो टुकड़ों में ही कर दिया, जिस कारण मीना की चित्कार को सुन आस-पड़ोस के लोग मौके पर आ पहुंचे और मीना को फौरन पास के अस्पताल में भर्ती करावाया और उसके बाद उसके पति को पहले पॉल से बांधा गया, इसके बाद उसे फौरन पुलिस के हवाले कर दिया गया।
फिलहाल, मीना की हालत नाजूक बनी हुई है। यहां हम आपको बता दें कि पहले तो मीना को सकरा अस्पताल में भर्ती करवाया गया, लेकिन वहां प्ररांभिक उपचार के बाद उसे फौरन एसकेएमसीएच अस्पातल में रेफर कर दिया है, जहां वो फिलहाल उपचाराधीन है। वहीं, उसका इलाज कर रहे हैं सर्जरी विभाग के डॉ आमलेंदु ने बताया कि मीना की जीभ में गहरा जख्म है। शरीर से काफी मात्रा में खून भी बहा है, जिसके कारण अभी उनकी हालत काफी नाजूक बनी हुई है।
इसलिए की थी मीना के पति ने दो शादी
दरअसल, मीना अपने पति की पहली पहली पत्नी है, लेकिन शादी के बाद जब वो अपने परिवार को कोई संतान नहीं दे पाई तो उसके पति ने दूसरी शादी कर ली। तब से प्राय: मीना का अपने सौतन के साथ हमेशा झगड़ा होता था। इसी कड़ी में जब करवाचौथ के दिन मीना का पति शुक्रवार को अपने घर लौटा और उसने मीना को उसकी दूसरी पत्नी के साथ झगड़ते हुए देखा तो गुस्से में आकर उसने सीधा अपनी पहली पत्नी मीना की जीभ ही काट दी…..
👆👆👆👆👆👆

अब बताए कि क्या लेना देना है इनको करवा चौथ से, अपने पारिवारिक रण्डी रौने को धार्मिक भावनाओं से जोड़ना कितना बड़ा अपराध है ऐसे लोगो और ऐसी सोच को उजागर करना जरूरी है
मुस्लिमों द्वारा किए गए अपराध को हिन्दू स्पिन देना कुछ मीडिया हाउस के लिए आम बात हो गई है। ऐसा ही एक मामला फिर सामने आया है। दरअसल बिहार के मुजफ्फरपुर में मोहम्मद शफीक नाम के शख्स ने अपनी दूसरी बीबी मीना खातून की जीभ काट दी। हिन्दी मीडिया ‘आज तक’ ने इसे सनसनीखेज बनाने के लिए हिन्दू त्योहार करवा चौथ को बदनाम करने की कोशिश करते हुए लिखा कि करवा चौथ वाले दिन पति ने हैवानियत दिखाई और ब्लेड से पत्नी की जीभ काट दी। बता दें कि करवाचौथ हिन्दू का वह पर्व है, जिस दिन पत्नियाँ अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं।
आज तक में प्रकाशित खबर की हेडलाइन
खबर के मुताबिक मुजफ्फरपुर के सकरा थाना के सरैया गाँव में दो सौतन के बीच झगड़े से गुस्साए पति शफीक ने दूसरी बीबी की जीभ ब्लेड से काट दी। घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित पति मोहम्मद शफीक को पोल से बाँध दिया जिसे बाद में पुलिस गिरफ्तार कर ले गई। पीड़िता मीना खातून को गंभीर हालत में सकरा रेफरल अस्पताल लाया गया जहाँ प्रारंभिक उपचार कर उसे एसकेएमसीएच रेफर कर दिया गया। मीना खातून के परिवार वालों ने मोहम्मद शफीक और उसकी पहली बीबी अंगूरी खातून के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है।
उन्होंने बताया कि पहली बीबी को बच्चा नहीं होने पर शफीक ने झाँसा देकर मीना खातून के साथ निकाह किया था। इसके बाद वो पहली बीबी के साथ मिलकर उसे प्रताड़ित करने लगा। जब मीना इस प्रताड़ना के खिलाफ आवाज उठाने की बात कहती तो शफीक और अंगूरी मीना की जीभ काटकर आवाज बंद करने की धमकी देते थे।
हैरानी की बात ये है कि इस पूरी घटना में कहीं भी करवा चौथ का जिक्र नहीं है, लेकिन घटना का करवा चौथ की रस्म के साथ कोई संबंध न होने के बावजूद आज तक ने अपनी हेडलाइन में इसका उल्लेख किया और मीडिया हाउस ने बड़ी ही धूर्तता से इस भयावह कृत्य में शामिल मुस्लिम लोगों की पहचान को छुपाया। इस हेडलाइन में करवा चौथ लिखकर ये दिखाने का प्रयास किया गया कि जरूर किसी हिन्दू पति ने ही अपनी पत्नी के साथ ये घृणित अत्याचार किया होगा। जबकि सच्चाई ये है कि मोहम्मद शफीक की दो बीबियाँ थी, जिसके बीच लड़ाई हुई और इस बीच शफीक ने अपनी दूसरी बीबी मीना खातून की जीभ काट दी। धूर्तता से इस तथ्य को हेडलाइन में छुपाया गया।
हिंदू त्योहारों को गालियाँ देना, उसका तिरस्कार करना कोई नई घटना नहीं है। कई मीडिया हाउस हिंदू रीति-रिवाजों और त्योहारों की बदनामी करने के दोषी हैं। एक मीडिया आउटलेट द वायर ने एक वाहियात लेख प्रकाशित किया जिसमें कहा गया है कि हिन्दू का त्योहार होली बलात्कार की संस्कृति को बढ़ावा देता है। एक अन्य धर्मनिरपेक्ष मीडिया आउटलेट हफ़िंगटन पोस्ट ने अपनी वेबसाइट पर पितृसत्ता के खिलाफ करवाचौथ की स्मृतियों के बारे में एक अपमानजनक अंश अपलोड किया था। इस तरह के कई उदाहरण हैं, जहाँ मीडिया आउटलेट्स ने हिंदू त्योहारों को बेझिझक होकर बदनाम किया है।

DISCLAIMER: The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carries the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text.