दलित-मुस्लिम गठजोड़: एक ऐसा फेक Narrative जिसका महज नाम है निशां नहीं!

दिल्ली स्थित सराय काले खां घटनाक्रम से स्वयंभू सेकुलरवादी, वामपंथी-जिहादी और उदारवादी-प्रगतिशील कुनबा अवाक है। इसके तीन कारण है। पहला- पूरा मामला देश के...

UP में होगा मदरसों का आधुनिकीकरण: शिक्षित कट्टर ज्यादा खतरनाक या अनपढ़ कट्टर ज्यादा खतरनाक?

हाल ही में उत्तरप्रदेश सरकार ने वित्तवर्ष 2021-22 का बजट प्रस्तुत किया। साढ़े पांच लाख करोड़ रुपये के प्रादेशिक बजट में मदरसों के आधुनिकीकरण...

‘लव-जिहाद’ एक ऐसा कड़वा सच जिसके बारे में उन्हें बताना जरूरी है जो नासमझ हैं!

आगामी दिनों में चार राज्यों- प.बंगाल, केरल, असम, तमिलनाडु और एक केंद्र शासित राज्य- पुड्डुचेरी में विधानसभा चुनाव होंगे। 2 मई को नतीजे क्या...

मजहबी उन्माद से कैसे निपटे भारत?

कुल शब्द- 1,258 आखिर कट्टरवादी-अलगाववादी इस्लामी मान्यताओं-आचरण से सभ्य समाज कैसे निपटें? इसका उत्तर खोजना उस समाज में और भी कठिन है, जो बहुलतावादी...

मजहबी उन्माद से कैसे निपटे भारत?

आखिर कट्टरवादी-अलगाववादी इस्लामी मान्यताओं-आचरण से सभ्य समाज कैसे निपटें? इसका उत्तर खोजना उस समाज में और भी कठिन है, जो बहुलतावादी और पंथनिरपेक्षी है-...

ज़रा सोचिए: हम में से कुछ को अपनी पहचान से घृणा क्यों?

गत बुधवार (30 दिसंबर) को पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा में बहुसंख्यक मुसलमानों की भीड़ ने अल्पसंख्यक हिंदुओं के एक प्राचीन मंदिर को ध्वस्त करके...