“यह नववर्ष नहीं मूर्खता है”

यह नववर्ष नहीं मूर्खता है। स्वतंत्रता के उपरांत भी। गोपाल के भारत को। छल रही धूर्तता है। सोए सनातन धर्म को जगाओ अब। नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से मनाओ अब। हे भारत के कर्णधारो। ज्ञान ले वेदो से वर्तमान को सुधारो। सत्य का ज्ञान ही,अज्ञान से जूझता है। यह नववर्ष नही मूर्खता है.....

The Original Recycler

The world is thick with debate on sustainability. The key to sustainability is recycling, self- renewability. Solar and Wind energy are seen as viable...

The Deeper Significance of Christmas

In the words of the Mother from Pondicherry, “Long before the Christian religion made December 25th the day of Christ’s birth, this day was the festival of the return of the sun, the Day of Light. It is this very ancient symbol of the rebirth of the Light that we wish to celebrate here.”