राष्ट्रविध्वंसक थे मुस्लिम आक्रांता

क्या मुगल और विदेशों से भारत आए मुस्लिम शासक, आक्रांता थे या राष्ट्रनिर्माता? हम ब्रितानी राज को किस श्रेणी में रखेंगे? अंग्रेज वह विदेशी...

ज्योतिषशास्त्र है विज्ञानाधिष्ठित; पाठ्यक्रम को राज्यपाल का समर्थन !

‘इग्नू’ से ज्योतिष पाठ्यक्रम न हटाने के लिए हिन्दू जनजागृति समिति की राज्यपाल से भेंट !      ‘इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विद्यापीठ’ (इग्नू) में ज्योतिषशास्त्र...

आईटी उद्योग कैसे भारत के भविष्य को आकार दे रहा है?

21वीं सदी सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित है, भारत वैश्विक आकर्षण के केंद्र में है और इसे ज्ञान का पावरहाउस माना जाता है। आईटी उद्योग...

आपातकाल में जीवित रहने के लिए तो साधना करें !

अखिल विश्व के जिज्ञासुओं के लिए 11 भाषाओं में ‘ऑनलाइन गुरुपूर्णिमा महोत्सव’ उत्साहपूर्ण वातावरण में संपन्न ! दिल्ली – संकट के समय सहायता मिलें; इसलिए हम अधिकोष (बैंक में) पैसे...

शुभ विवाह – कुर्यात सदा मंगलम्।

                                                                – लेखकः हेमंतकुमार गजानन पाध्या। विवाह या लग्न मानव जीवनकी एक धार्मिक, सामाजिक, वैज्ञानिक और वंशीय परंपरा और व्यवस्था हैं । भारतीय तत्वज्ञान...

संत और गुरु में अंतर

संत और गुरु सकाम और निष्काम की प्राप्ति के लिए संत थोड़ा मार्गदर्शन देते हैं। कुछ संत लोगों की व्यावहारिक समस्याओं को हल करने...

TikTok भारत में वापसी के लिए तैयार? बैन के बावजूद मान रहा नए IT नियम

नई दिल्ली: TikTok अभी भी भारत में अपनी वापसी की उम्मीद लगाकर बैठा है. खबरों की मानें तो भारत के नए आईटी नियमों (New...

नए IT नियमों को लेकर सरकार सख्त, Twitter का कानूनी संरक्षण खत्म; अब होगी कार्रवाई

नई दिल्ली: नए आईटी नियमों (New IT Rules) का पालन नहीं करना माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) को भारी पड़ गया है और अब उसे...

कोरोना वायरस: प्राकृतिक आपदा या चीन का जैविक हथियार?

चीन की कम्युनिस्ट सत्ता सदा से अति महत्वाकांक्षी होने के साथ ही विश्व की महाशक्ति बनने के लिए लालायित रही है। चीन में मानवाधिकारों...

ट्वीटर बना निहित स्वार्थ ताकतों का अड्डा

माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर (Twitter) क्या चाहता ओर उसकी क्या सोच है आज सत्य प्रतीत हो गयी क्योंकि ट्विटर आज निहित स्वार्थ ताकतों का...

पर्यावरण पर गहराता संकट, भविष्य के लिए वैश्विक चुनौती

पर्यावरण यानि हमारे चारों और मौजूद जीव-अजीव घटकों का आवरण, जिससे हम घिरे हुए हैं जैसे कि जीव-जंतु, जल, पौधे, भूमि और हवा जो...